जम्मू-कश्मीर: एक दिन में चार आतंकी हमले, सेना प्रमुख जनरल दलबीर सुहाग ने पीएम से मुलाकात करके मामले की जानकारी दी।

जम्मू-कश्मीर में शुक्रवार को चार आतंकी हमले हुए। सबसे पहले बारामूला के उरी में सेना के एक कैंप पर हमला किया गया, जिसमें सेना के आठ और पुलिस के तीन जवान शहीद हो गए। सभी 6 आतंकवादी ढेर कर दिए गए। दूसरा हमला श्रीनगर के सौरा में हुआ। यहां सेना ने एक आतंकी को मार गिराया। आतंकियों ने शोपियां में एक थाने पर ग्रेनेड फेंका, लेकिन कोई हताहत नहीं हुआ। इसके अलावा, दक्षिणी कश्मीर के ट्राल इलाके में एक बस स्टैंड को आतंकियों ने निशाना बनाते हुए ग्रेनेड फेंका, जिसमें एक व्यक्ति मारा गया, जबकि 7 नागरिक घायल हो गए।

आतंकियों ने शुक्रवार सुबह नियंत्रण रेखा (एलओसी) के निकट उरी सेक्‍टर में सेना के एक कैंप पर हमला कर दिया। छह आतंकियों को सेना ने ढेर कर दिया है। शुक्रवार तड़के हुए आतंकियों के फिदायीन हमले में 9 जवान और 3  पुलिसकर्मी भी शहीद हुए।   यह हमला उत्तरी कश्मीर के बारामूला जिले के उड़ी इलाके में हुई, जहां नौ दिसंबर को राज्य में तीसरे चरण का मतदान होगा।

पुलिस अधिकारियों ने बताया कि आज तड़के तीन बजकर 10 मिनट पर उड़ी तहसील के मोहरा में सैन्य शिविर पर आतंकियों ने हमला किया। सुरक्षा बलों और हमलावरों के बीच भारी गोलीबारी हुई।

कश्मीर के पुलिस महानिरीक्षक एजी मीर ने आतंकियों और पुलिसकर्मियों की मौत की पुष्टि करते हुए कहा कि सेना के हताहतों के बारे में अभी और जानकारी जुटाई जा रही है। सैन्य अधिकारियों ने कहा कि सेना की गोलीबारी में कुछ हताहत हुए हैं, उनकी वास्तविक संख्या के बारे में पुष्टि की जा रही है। पुलिस अधिकारियों ने बताया कि आतंकियों ने शायद हाल में पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर की तरफ से घाटी में घुसपैठ की। इसकी जांच की जा रही है। बारामूला जिले के उड़ी और अन्य छह निर्वाचन क्षेत्रों में नौ दिसंबर को होने वाले चुनाव के ठीक चार दिन पहले हमला हुआ है। रक्षा सूत्रों का कहना है कि जम्मू-कश्मीर में दो फेज के बेहद सफल चुनाव की वजह से आतंकी संगठन अपनी उपस्थिति दर्ज कराना चाहते हैं और यह हमला उसी की कोशिश है। यह हमला उत्तरी कश्मीर के बारामूला जिले के उड़ी इलाके में हुई, जहां नौ दिसंबर को राज्य में तीसरे चरण का मतदान होगा।

7

2

 

Periodicals