घर वापसी पसंद नहीं तो धर्मांतरण विरोधी कानून लेकर आयें : डॉ प्रवीण भाई तोगड़िया

पुत्तुर (कर्नाटक). विश्व हिंदू परिषद के अंतर्राष्ट्रीय अध्यक्ष डॉ प्रवीण भाई तोगड़िया ने कहा कि घर वापसी अभियान को रोकने का सवाल ही पैदा नहीं होता. अभियान के तहत केवल हिंदू धर्म से गये बंधुओं को पुन: मातृ धर्म में लाने के प्रयास किये जा रहे हैं. यदि कुछ लोगों को यह पसंद नहीं है तो संसद में धर्मांतरण विरोधी कानून लेकर आएं. और अपने देश भारत में हिंदू परंपराओं, मान्यताओं को लागू किया जाये. डॉ तोगड़िया 16 जनवरी को पुत्तुर में आयोजित विराट हिंदू हृदय संगम में उपस्थित बंधुओं को संबोधित कर रहे थे. विराट हिंदू संगम का आयोजन पुत्तुर के महालिगेश्वर मंदिर के समीप स्थित मैदान में विहिप के स्वर्ण जयंती वर्ष के उपलक्ष्य में किया गया था.

डॉ तोगड़िया ने कहा कि पूर्व में किसी कारण धर्मांतरित हिंदुओं को मातृ धर्म में वापिस लाने के लिये ही प्रयास किये जा रहे हैं, घर वापसी के विषय पर कुछ लोगों को अधिक शोर मचाने की आवश्यकता नहीं है, क्योंकि जब वास्तव में धर्मांतरण होता है तो कोई आवाज नहीं उठाता. 2000 साल पहले तक भारत हिंदू राष्ट्र था, लेकिन धर्मांतरण के कारण देश ने हिंदुत्व की पहचान खो दी. एक समय ऐसा भी था, जब लोग स्वयं को हिंदू कहने से ही घबराने लगे थे. पर, यह स्थिति अधिक समय तक नहीं चल सकी. कहा कि बेहतर भविष्य के लिये हिंदू समाज को संगठित होना होगा.

​​2

उन्होंने विहिप की ओर से किये जा रहे प्रयासों के बारे में जानकारी दी व कहा कि मतांतरण के कारण समय-समय पर अखंड भारत विभिन्न हिस्सों में बंटता गया, कश्मीर में अब भी निरंतर रूप से सैकड़ों हिंदू समाज हिंसा का शिकार हो रहे हैं. लाखों की संख्या में हिंदुओं को कश्मीर घाटी से जाने के लिये मजबूर कर दिया गया. हमें कश्मीरी हिंदुओं की वापसी के साथ ही उन्हें स्थापित करना होगा. विश्व हिंदू परिषद पिछले 50 वर्षों से हिंदू समाज के उत्थान के लिये कार्य कर रही है, लगभग दो लाख से अधिक सेवा कार्य किये गये. उन्होंने कहा कि राम मंदिर निर्माण तथा हिंदू परंपराओं को लागू करवाना प्रमुख लक्ष्य है.

क्या कर्नाटक में औरंगजेब का शासन है?

डॉ तोगड़िया ने कर्नाटक सरकार द्वारा मठों को अपने नियंत्रण में करने के लिये बनाये जा रहे कानून पर सवाल खड़ा किया. उन्होंने कहा कि पुराने समय में औरंगजेब व उसके समर्थकों ने हिंदू मंदिरों, मठों को लूटने का कार्य किया. और अब राज्य सरकार हिंदू मंदिर, मठों को अपने नियंत्रण में करना चाहती है. क्या प्रदेश में दोबारा औरंगजेब का शासन आ गया है, सरकार के इस प्रयास को सहन नहीं किया जायेगा

भारत की सुरक्षा प्राथिमकता होनी चाहिये

उन्होंने कहा कि हमें भारत को शक्तिशाली हिंदू राष्ट्र बनाना होगा. इसके लिये तीन बिंदुओं पर कार्य करना होगा, भारत की सुरक्षा और सम्मान के लिये हमेशा तैयार रहना होगा, घर वापसी के समर्थन के साथ ही अवैध कानूनों, लव जिहाद का विरोध, व समान नागरिक संहिता का समर्थन करना होगा. देश में जिहादी गतिविधियां विभिन्न रूपों में चल रही हैं, लव जिहाद, संपत्ति जिहाद, बम जिहाद, आर्थिक जिहाद सहित अन्य प्रकार देश को नुकसान पहुंचा रहे हैं. हमें देश विरोधी गतिविधियों के खिलाफ दृढ़ता के साथ खड़ा होना होगा. राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के दक्षिण मध्य क्षेत्र के संपर्क प्रमुख डॉ प्रभाकर ने कार्यक्रम की अध्यक्षता की. कार्यक्रम में विभिन्न संत तथा धर्माचार्य भी उपस्थित थे.

साभार : विश्व संवाद केंद्र – भारत

3

4

5

Periodicals