दुनियां की सबसे बड़ी दूरबीन बनाने में भागीदार होंगे भारतीय वैज्ञानिक

हवाई द्वीप में लगने जा रही दुनिया की सबसे बड़ी तीस मीटर दूरबीन टीएमटी के निर्माण में हिस्सा ले रहे देश के तीन दर्जन से अधिक वैज्ञानिक व इंजीनियर नैनीताल में विचार विमर्श करेंगे। टीएमटी एरीज के कोऑर्डिनेटर डॉ. शषिभूषण पांडे ने बताया कि दुनिया की सबसे बड़ी प्रस्तावित दूरबीन के निर्माण में भारत दस प्रतिशत की भागीदारी निभा रहा है। जिसमें एरीज भी कुछ महत्वपूर्ण पार्ट बनाएगा। इसके अलावा देश की कई अन्य वैधशालाएं, विश्वविद्यालय व कंपनियां योगदान दे रही हैं। योजना को सफल बनाने के लिए दो दिवसीय मंत्रणा एरीज में आयोजित की गई है। बैठक में दूरबीन बनाने में आड़े आ रही समस्याओं पर भी विस्तार से चर्चा कर उनके निस्तारण को लेकर वार्ता की जाएगी। टीएमटी इंडिया के प्रोग्राम निदेशक व डिप्टी निदेशक के अलावा आयुका, आइआइए, टीएफआरआइ के वैज्ञानिकों समेत इंजीनियर आदि बैठक में भाग लेंगे।

साभार – विश्व संवाद केन्द्र उत्तराखंड

Periodicals