8

देवर्षि नारद जयंती “पत्रकार सम्मान समारोह”

28.05.2017

विश्व संवाद केंद्र-गुजरात द्वारा दिनांक 28 मई, रविवार को देवर्षि नारद जयंती की स्मृति में  “पत्रकार सम्मान समारोह ” का आयोजन किया गया. कार्यक्रम का प्रारंभ मे मुख्य अतिथि श्री मुकेशभाई मलकान (प्रांत संघचालक, रा.स्व.संघ-गुजरात) मुख्य वक्ता पद्मश्री विष्णुभाई पंड्या (अध्यक्ष, गुजरात साहित्य परिषद) तथा श्री हरेशभाई ठक्कर (ट्रस्टी-विश्व संवाद केंद्र-गुजरात) द्वारा दीप प्रज्वलन से किया गया

इस अवसर पर कार्यक्रम के मुख्य वक्ता पद्मश्री विष्णुभाई पंड्या का शाल उढ़ाकर श्री मुकेशभाई मलकान द्वारा सम्मान किया गया.

सम्मानित महानुभावो में श्री भवेनभाई कच्छी (सुप्रसिद्द स्तंभकार) को श्री मुकेशभाई मलकान द्वारा, श्रीमती ज्योतिबहन उनडकट (स्तंभकार) को पद्मश्री विष्णुभाई पंड्या द्वारा, श्री ब्रजेशकुमार सिंह ( ABP Asmita, Gujarati) को श्री हरेशभाई ठक्कर द्वारा,  श्री विकास उपाध्याय (TV 9) को श्री मुकेशभाई मलकान  तथा सुश्री आरती बोरिया (RJ, Redio City 91.1) को पद्मश्री विष्णुभाई पंड्या द्वारा सम्मानित किया गया.

इस अवसर पर अपने उद्बोधन में मुख्य वक्ता पद्मश्री विष्णुभाई पंड्या ने कहाँ कि सभी सम्मानित पत्रकारों को मेरा अभिनंदन. आज के 21वी सदी के युग में विणाधारक श्री नारद का आदर्श रखना एक कौतुक पैदा करता है.

नारदजी के विषय में नारद पुराण में 25,000 श्लोक है. नारदजी ब्रह्मा के मानस पुत्र थे. श्री नारद मुनि सकल ब्रह्माण्ड की जानकारी रखते थे और Free Lancer थे, दृष्टा थे, Mind of God थे, पुण्य प्रकोपी भी थे. अन्याय सहन न करना, यह पत्रकार का स्वभाव है.

जानकारी रखने वाले, शिक्षण एवं मनोरंजन के साथ 64 विधाओं के जानकर थे. आज जिस नवजीवन प्रेस ट्रस्ट के संकुल में यह कार्यक्रम आयोजित किया गया है. उसपर दो बार प्रतिबंध आया एक आपातकाल के समय तथा गाँधीजी का Young India इसी प्रेस में छपता था उस समय जिसमे गांधीजी को 6 वर्ष के कारावास की सजा हुई.

वास्तव में आज यह सम्मान पत्रकारों का सम्मान नहीं वरन शब्दों का सम्मान है. लगातार विचार प्रक्रिया से उत्तपन शब्दों का यह सम्मान है. वास्तव में लेखक को शब्दों द्वारा ही विश्वभर में सम्मान मिलता है. किसी को भी वांचन, निरीक्षण एवं उसमे से जन्मे विचारो के बिना पत्र्कारित्वता के क्षेत्र में नहीं आना चाहियें. यह अग्निपथ की यात्रा है.

प्रिंट मीडिया, इलेक्ट्रॉनिक मीडिया एवं डिजिटल मीडिया वास्तव में एकदुसरे के दुश्मन नहीं है बल्कि पूरक है. ये तीनो मिलकर बड़ा परिवर्तन ला सकते है. पत्रकारों से समाज को विशेष अपेक्षा है क्योकि Truth speaking पत्रकारों का धर्म है.

कार्यक्रम के प्रारंभ में मुख्य अतिथि श्री मुकेश भाई मलकान (प्रांत संघचालक, गुजरात प्रांत) ने राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ की ओर से पत्रकारों से राष्ट्र सेवा का आह्वान किया.

इस अवसर पर श्री यशवंत भाई चौधरी (प्रांत कार्यवाह, गुजरात प्रांत), श्री शैलेष भाई पटेल (सह प्रांत कार्यवाह, गुजरात प्रांत), श्री विजय भाई ठाकर (प्रांत प्रचार प्रमुख, रा.स्व. संघ, गुजरात), श्री हितेंद्र भाई मोजिद्रा (सह प्रांत प्रचार प्रमुख, रा.स्व. संघ, गुजरात) सहित अनेक पत्रकार मित्र तथा गणमान्य नागरिक उपस्थित रहे. कार्यक्रम का सुंदर संचालन श्री हर्षभाई शाह ( प्रचार प्रमुख, रा.स्व. संघ, कर्णावती महानगर) ने किया.

1

2

3

4

5

6

7

9

10

Periodicals