1

पत्रकार जितना सतर्क होगा, उतना ही समाज सतर्क रहेगा – भाग्येश झा

19-05-2019

विश्व संवाद केंद्र, गुजरात द्वारा श्री नारद जयंती के अवसर पर पत्रकार सम्मान कार्यक्रम का आयोजन किया गया. इस वर्ष सम्मानित पत्रकारों में

श्री जयवंतभाई पंड्या (Print Media),

श्री विवेक कुमार भट्ट (Digital Media),

श्री मनोजभाई मेहता (Web Media),

श्री मौलिन मुंशी (Radio Journalism) ,

श्री सुदर्शन उपाध्याय, गुजरात समाचार (विशेष सन्मान) ,

श्री हर्षदभाई याज्ञिक, साधना साप्ताहिक – (विशेष सन्मान)

कार्यक्रम में मुख्य वक्ता श्री भाग्येश झा (साहित्यकार तथा पूर्व सुचना आयुक्त, गुजरात) ने कहाँ कि नारद का कार्य सकारात्मत बातों (Positive Journalism)  को बाहर लाना था. यह काम बिना किसी भेदभाव के करने वाला ही नारद का अनुयायी हो सकता है. विश्व संवाद केंद्र द्वारा आज जिन 6 महानुभावो का सन्मान किया गया. उनका चयन बहुत ही बुद्धिमतापूर्वक किया गया है. पत्रकारात्व की आज की जो आवश्यकता है उनका समावेश इन 6 महानुभावो में हो जाता है.

उन्होंने कहाँ कि में तो नारद के साथ साथ कालिदास की बात भी कहूँगा जिन्होंने मेघदूत में बादलों के माध्यम से संदेश भेजने की बात कही है. आजकल कवि कालिदास का अध्ययन करके Cloud  Computing कर रहे है. आजकल custom news catering का जमाना है.

भविष्य का पत्रकारत्व विषय पर हॉवर्ड में एक संशोधन हुआ और Wordsmith नामक एक ऐप तैयार किया गया उनका कहना है कि भूकंप जैसे समाचार का रिपोर्ट आप रोबोट को दे तो वह 3000 शब्दों का रिपोर्ट तैयार कर देगा. हमें भी भविष्य की टेक्नोलॉजी का ध्यान रखना होगा .

भाग्येशजी ने कहाँ कि पत्रकारों को तीन बातों से सावधानी रखने की जरुरत है

  1. I am the first 2. I am unique  3. I am reliable

पत्रकारों की प्रतिदिन परीक्षा होती है तथा रोज उसका परिणाम भी होता है. दूसरा अल्पजीवी समाचारो का युग है. इसीलिए Slow Journalism की भी आवश्यकता पड़ेगी. मुझे ऐसा लगता है कि पत्रकार समाज को दिशा देने वाले लोग है. पत्रकार कभी इतिहास नहीं लिखता लेकिन पत्रकारों के बिना इतिहास लिखा भी नहीं जा सकता.

अंत में उन्होंने कहाँ कि Creative Writing एक बहुत बड़ा Challenge है. और हेड लाइन बनाना भी उतना ही महत्त्वपूर्ण है. आज जब लोगो के पास समय की कमी है तब क्या करना उसका ज्ञान देने वाला भी पत्रकार है. पत्रकार को हमेशा जागृत रहना आवश्यक है पत्रकार जितना सतर्क होगा उतना ही समाज सतर्क रहेगा और समाज सतर्क रहेंगा तो सरकार भी बराबर ही चलेगी.

कार्यक्रम में अध्यक्ष के रूप में उपस्थित श्री जयंतीभाई भाड़ेसिया (मा. क्षेत्र संघचालक, पश्चिम क्षेत्र, रा.स्व.संघ) ने अपने उद्बोधन में कहाँ कि आचार, नैतिकता तथा देश प्रेम पत्रकारात्व की नीवं में होना चाहिये. कार्यक्रम में गुजरात प्रांत संघचालक डॉ. भरतभाई पटेल, पूर्व संघचालक श्री अमृतभाई कड़ीवाला, प्रांत प्रचार प्रमुख श्री विजयभाई ठाकर, प्रांत सहप्रचार प्रमुख श्री हितेंद्रभाई मोजिद्रा, विश्व संवाद केंद्र के ट्रस्टीओ सहित  बड़ी संख्या में गणमान्य लोग उपस्थित रहे.

8

2

3

4

5

6

7

Periodicals