सामुदायिक रेडियो आम जन से संवाद का एक उत्तम साधन है – श्री जे. नंद कुमार जी

बैंगलुरू (विसंकें). राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के अखिल भारतीय सह प्रचार प्रमुख जे नंद कुमार ने कहा कि सामुदायिक रेडियो आम जन से संवाद का एक उत्तम साधन है. जिसके माध्यम से क्षेत्र विशेष के समुदाय की समस्याओं को उठाने और उनके समाधान को लेकर चिंतन मंथन कर सकता है. सामुदायिक रेडियो के माध्यम से गांवों में विद्यमान परंपराओं, स्थानिय पारंपरिक खेल व कला को भी काफी हद तक संरक्षित किया जा सकता है. साथ ही प्रचार के इस सहज माध्यम से राष्ट्रीय विचारों को भी प्रचारित किया जा सकता है. उन्होंने कहा कि काफी संख्या में गैर सरकारी संस्थाएं ग्रामीण, दूरस्थ क्षेत्रों के लोगों तक पहुंचने के लिये सामुदायिक रेडियों का उपयोग कर रही हैं. या यूं कहा जाए कि यह साधन आम जन की आवाज बन रहा है.

नंद कुमार जी बैंगलुरू में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के प्रचार विभाग द्वारा रविवार को सामुदायिक रेडियो पर आयोजित कार्यशाला के उद्घाटन अवसर पर संबोधित कर रहे थे. कार्यशाला के आयोजन में फर्स्ट (फाउंडेशन फार इंडिक रिसर्च एंड स्टडी ) संस्था का भी सहयोग रहा.

माखनलाल चतुर्वेदी पत्रकारिता विवि भोपाल के वीसी प्रो बृजकिशोर कुठियाला सहित, डॉ मोनिका वर्मा, प्रो आशीष जोशी ने सामुदायिक रेडियो व रेडियो स्टेशन स्थापित करने की प्रक्रिया पर अपने विचार रखे. एकदिवसीय कार्यशाला में केरल, तमिलनाडु, आंध्र प्रदेश, तेलंगाना, कर्नाटक के 30 गैर सरकारी संगठनों के 48 प्रतिनिधयों ने भाग लिया.

2

Periodicals