269564

सिख धर्म के संस्थापक गुरु गुरुनानक देव / जन्म दिवस – 15 अप्रैल, 1469 ( तिथिनुसार वैशाख सुदी 3, संवत्‌ 1526 विक्रमी)

सिख धर्म के संस्थापक और पहले गुरु गुरुनानक देव का जन्म  रावी नदी के किनारे तलवंडी नामक गाँव में 15 अप्रैल, 1469 में कार्तिक पूर्णिमा, संवत् 1 5 2 7 को हुआ था।  गुरु नानक जी अपने व्यक्तित्व में दार्शनिक, योगी, गृहस्थ, धर्मसुधारक, समाजसुधारक,  कवि,  देशभक्त और विश्वबंधु – सभी के गुण समेटे हुए थे।तलवंडी का नाम आगे चलकर नानक के नाम पर ननकाना पड़ गया। बचपन से इनमें प्रखर बुद्धि के लक्षण दिखाई देने लगे थे। लड़कपन ही से ये सांसारिक विषयों से उदासीन रहा करते थे। पढ़ने लिखने में इनका मन नहीं लगा।

7-8 साल की उम्र में स्कूल छूट गया क्योंकि भगवत्प्रापति के संबंध में इनके प्रश्नों के आगे अध्यापक ने हार मान ली तथा वे इन्हें ससम्मान घर छोड़ने आ गए। तत्पश्चात् सारा समय वे आध्यात्मिक चिंतन और सत्संग में व्यतीत करने लगे। गुरुनानक जी चारो ओर घूमकर उपदेश करने लगे जिनमे भारत, अफगानिस्तान, फारस और अरब के मुख्य मुख्य स्थानों पर उन्होंने भ्रमण किया.

इनके उपदेश का सार यही होता था कि ईश्वर एक है उसकी उपासना हिंदू मुसलमान दोनों के लिये है। मूर्तिपुजा, बहुदेवोपासना को ये अनावश्यक कहते थे। हिंदु और मुसलमान दोनों पर इनके मत का प्रभाव पड़ता था। लोगों ने तत्कालीन इब्राहीम लोदी से इनकी शिकायत की और ये बहुत दिनों तक कैद रहे। अंत में पानीपत की लड़ाई में जब इब्राहीम हारा और बाबर के हाथ में राज्य गया तब इनका छुटकारा हुआ।

जीवन के अंतिम दिनों में इनकी ख्याति बहुत बढ़ गई । स्वयं विरक्त होकर ये अपने परिवारवर्ग के साथ रहने लगे और दान पुण्य, भंडारा आदि करने लगे। उन्होंने करतारपुर नामक एक नगर बसाया, जो कि अब पाकिस्तान में है और एक बड़ी धर्मशाला उसमें बनवाई। इसी स्थान पर 22 सितंबर 1539 ईस्वी को इनका परलोकवास हुआ। मृत्यु से पहले उन्होंने अपने शिष्य भाई लहना को अपना उत्तराधिकारी घोषित किया जो बाद में गुरु अंगद देव के नाम से जाने गए।

Source : http://www.sikhiwiki.org, https://en.wikipedia.org/wiki/Guru_Nanak

#GuruNanakDev #vskgujarat.com

Periodicals