16 July

स्वतंत्रता सेनानी अरुणा आसिफ़ अली / जन्म दिन – 16 जुलाई

स्वतंत्रता सेनानी अरुणा आसिफ़ अली का जन्म तत्कालीन पंजाब के कालका नमक स्थान पर एक बंगाली ब्रह्मण परिवार में  हुआ था । बचपन से ही अद्भुत प्रतिभावान अरुणा जी की शिक्षा-दीक्षा लाहौर और नेनिताल से सम्पन्न हुई । स्नातक में उत्तीर्ण होने के बाद इन्होंने गोखले मेमोरियल स्कूल कलकता में शिक्षक के रूप में कार्य प्रारम्भ किया ।

जयप्रकाश नरायण , डॉ राममनोहर लोहिया जैसे समाजवादीयों के विचार से प्रभावित अरुणा जी विवाह के उपरांत भारतीय स्वाधीनता संग्राम में अपनी भूमिका प्रस्तुत करने लगी । नमक सत्याग्रह के दौरान सार्वजनिक सभा करने के कारन उन्हें जेल जाना पड़ा । गाँधी इरविन समझौता 1931 में सभी बंदियो को छोड़ दिया गया परन्तु उन्हें नहीं छोड़ा गया । स्त्री के साथ इस भेदभाव के कारण सभी स्त्रियाँ जेल से निकलने से मना कर दी । फिर गाँधी जी के प्रयास से उन्हें छोड़ा गया । इस दौरान इन्होंने जेल में हो रहे कैदियों पर दुर्व्यवहार एवं वयस्था को लेकर अनसन भी किया ।

1942 में भारत छोड़ो आंदोलन के दौरान इन्होंने मुम्बई के गोवालिया मैदान में कांग्रेस का झंडा फ़हराया जिसके लिए भी उन्हें याद किया जाता है । इस दौरान इन्होंने भूमिगत रहकर कांग्रेस का प्रचार-प्रसार एवं अपने साथियों का नेतृत्व किया । गांधीजी और अन्य नेताओ के गिरफ्तारी के बाद ब्रिटिश सरकार के विरोध में सभाएं की । और जेल से बाहर रह रहे कांग्रेस के लोगो  को नेतृत्व प्रदान किया । 1942 से लेकर 1946 तक पुरे देश में दिल्ली, कलकता, मुंबई आदि घूम-घूम कर सभाएं की किन्तु गिरफ्तार नहीं हुई । ब्रिटिश सरकार द्वारा सारी सम्पत्ति ज्ब्द्द कर लिया गया एवं 5,000 का इनाम भी रखा गया । 1946 में वारंट रद्द होने के बाद उन्होंने आत्मसमर्पण कर दिया ।

स्वतंत्रता प्राप्ति के बाद 1948 में अरुणा जी कांग्रेस छोड़ कर “सोसलिस्ट पार्टी” में शामिल हुई । और फिर 1950 में उन्होंने अपनी एक अलग से पार्टी बनायी “लेफ्ट स्पेस्लिस्ट पार्टी” और पूरी तन्मयता से मजदूर-आंदोलन में सक्रिय हो गई ,  1955 में “लेफ्ट स्पेस्लिस्ट पार्टी” का विलय “भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी” में हो गया, जिसमें उन्हें “ऑल इंडिया ट्रेड यूनियन कांग्रेस” का उपाध्यक्षा बनाया गया । फिर सन् 1958 ई. में उन्होंने “भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी” भी छोड़ दी । सन् 1964 ई. में पं. जवाहरलाल नेहरू के निधन के पश्चात वे पुनः ‘कांग्रेस पार्टी’ से जुड़ीं ।

श्रीमती अरुणा आसफ़ अली सन् 1958 ई. में “दिल्ली नगर निगम” की प्रथम महापौर चुनी गईं । 1975 में “लेनिन पुरस्कार” , 1991 में “जवाहरलाल नेहरु पुरस्कार” , 1992 में  “पद्मविभूषण” , एवं 1997 में सर्वोच्च नागरिक सम्मान “भारतरत्न” से सम्मानित श्रीमती अरुणा आसफ़ अली का सन् 29 जुलाई 1996 (87वर्ष) की अवस्था में अवसान हो गया । सम्पूर्ण भारतवर्ष भारतीय स्वाधीनता संग्राम के “ग्रांड ओल्ड लेडी” को युगों-युगों तक स्मरण रखेगा ।

Periodicals