Importants Day

Graphic1

वकील साहब : लक्ष्मणराव इनामदार / जन्म दिवस – 21 सितम्बर

गुजरात में वकील साहब के नाम से लोकप्रिय श्री लक्ष्मण माधवराव इनामदार का जन्म 21 सितम्बर, 1917 (भाद्रपद शुदी 5, ऋषि पंचमी) को ग्राम खटाव (जिला सतारा, महाराष्ट्र) में हुआ था। इनके पूर्वज श्रीकृष्णराव खटावदार ने शिवाजी के काल में स्वराज की बहुत सेवा की थी, अतः शिवाजी के पौत्र छत्रपति शाहूजी महाराज ने उन्हें इनाम में कुछ भूमि और ‘सरदार’ की उपाधि […]

21 September 2019
 
20-sep

एकात्मता के पुजारी : नारायण गुरु / पुण्य तिथि – 20 सितम्बर

हिन्दू धर्म विश्व का सर्वश्रेष्ठ धर्म है; पर छुआछूत और ऊंचनीच जैसी कुरीतियों के कारण हमें नीचा भी देखना पड़ता है। इसका सबसे अधिक प्रकोप किसी समय केरल में था। इससे संघर्ष कर एकात्मता का संचार करने वाले श्री नारायण गुरु का जन्म 1856 ई. में तिरुअनंतपुरम् के पास चेम्बा जनती कस्बे में ऐजवा जाति के श्री मदन एवं […]

20 September 2019
 
19-septgember

वेदमूर्ति : पंडित श्रीपाद सातवलेकर / जन्म दिवस – 19 सितम्बर 1867

वेदों के सुप्रसिद्ध भाष्यकार पंडित श्रीपाद दामोदर सातवलेकर का जन्म 19 सितम्बर, 1867 को महाराष्ट्र के सावंतवाड़ी रियासत के कोलगाव में हुआ था। जन्मपत्री के अनुसार 16 वें वर्ष में उनकी मृत्यु का योग था; पर ईश्वर की कृपा से उन्होंने 102 की आयु पाई। वेदपाठी परिवार होने से उनके कानों में सदा वेदमंत्र गूंजते रहते थे। मामा श्री पेंढारकर के घर सावंतवाड़ी […]

19 September 2019
 
18 Sep Maharaja Shankar Shah

अमर बलिदानी महाराजा शंकर शाह और राजकुमार रघुनाथ शाह / बलिदान दिवस – 18 सितम्बर 1857

कविता सुनाकर मृत्यु को गले लगाया 1857 ई0 में जबलपुर में तैनात अंग्रेजों की 52वीं रेजिमेण्ट का कमाण्डर क्लार्क बहुत क्रूर था। वह छोटे राजाओं, जमीदारों एवं जनता को बहुत परेशान करता था। यह देखकर गोण्डवाना (वर्तमान जबलपुर) के राजा शंकरशाह ने उसके अत्याचारों का विरोध करने का निर्णय लिया। राजा एवं राजकुमार दोनों अच्छे कवि थे। उन्होंने कविताओं […]

18 September 2019
 
17 Sep Nizam Surrender

निजाम का आत्म समर्पण – हैदराबाद का भारत मे विलय / 17 सितम्बर, 1948

जब 1947 में भारत आजाद हो गया उसके बाद हैदराबाद की जनता भी भारत में विलय चाहती थी. पर उनके आन्दोलन को निजाम ने अपनी निजी सेना रजाकार के द्वारा दबाना शुरू कर दिया. रजाकार एक निजी सेना (मिलिशिया) थी जो निजाम ओसमान अली खान के शासन को बनाए रखने तथा हैदराबाद को नव स्वतंत्र भारत […]

17 September 2019
 
16-september

लेफ्टिनेंट कर्नल ए. बी. तारापोर नेअकेले उड़ाए थे पाक के 60 टैंक / बलिदान दिवस – 16 सितम्बर 1965 ​​

​’परमवीर’ ने अकेले उड़ाए थे पाक के 60 टैंक, गोली खाकर भी चलाते रहे बंदूक कमांडिंग ऑफिसर लेफ्टिनेंट कर्नल अर्देशिर बुरजोरजी तारापोर – ​वे जख्मी थे, फिर भी लड़ते रहे। उन्हें ऑर्डर मिले थे पीछे हटने के, पर नहीं हटे। लौटते तो अपनी जान बचा सकते थे, लेकिन उन्होंने आगे बढ़ना स्वीकारा। उन्हें गोली लगी […]

16 September 2019
 
Karm Singh

परमवीर लांस नायक करम सिंह / जन्म दिवस – 15 सितम्बर

लांस नायक करम सिंह ( 15 सितम्बर 1915 – 20 जनवरी 1993 ) पंजाब के बरनाला में जन्में एक सिख थे. 1947 में हुए भारत – पाकिस्तान युद्ध में अभूतपूर्व वीरता के लिए जिन्हें भारत के सेना के वीरों को प्रदान किये जाने वाले सर्वोच्च सम्मान ” परम वीर चक्र ” से नवाजा गया था. […]

15 September 2019
 
14-september

क्रांतिकारी लाला जयदयाल बलिदान दिवस / 14 सितम्बर, 1858

1857 में जहाँ एक ओर स्वतन्त्रता के दीवाने सिर हाथ पर लिये घूम रहे थे, वहीं कुछ लोग अंग्रेजों की चमचागीरी और भारत माता से गद्दारी को ही अपना धर्म मानते थे। कोटा (राजस्थान) के शासक महाराव अंग्रेजों के समर्थक थे। पूरे देश में क्रान्ति की चिनगारियाँ 10 मई के बाद फैल गयीं थी; पर कोटा में यह आग अक्तूबर […]

14 September 2019
 
13 Sep Jatin Da

क्रांतिकारी यतीन्द्र नाथ दास (जतिन दा ) / बलिदान दिवस – 13 सितम्बर

यतीन्द्रनाथ दास का जन्म 27 अक्तूबर, 1904 को कोलकाता में हुआ था।16 वर्ष की अवस्था में ही वे असहयोग आंदोलन में दो बार जेल गये थे। इसके बाद वे क्रांतिकारी दल में शामिल हो गये। शचीन्द्रनाथ सान्याल से उन्होंने बम बनाना सीखा। 1928 में वे फिर पकड़ लियेे गये। वहां जेल अधिकारी द्वारा दुर्व्यवहार करने पर ये उससे भिड़ गये। इस […]

13 September 2019
 
12 Sep Saragadhi

सारागढ़ी के रणबाँकुरे जब 21 भारतीय जवानो ने 10 हजार अफगानों को रोक लिया / 12 सितम्बर, 1897

यह विश्व के सैनिक इतिहास की एक अनुपम गाथा है. भारतीय जवानों के शौर्य और पराक्रम का अनुपम उदाहरण है. मात्र 21 सिख सैनिको ने दस हजार अफगानों से जमकर मोर्चा लिया और अपने से कई गुना अधिक दुश्मनों को एक इंच भी आगे नहीं बढ़ने दिया. यह घटना 12 सितम्बर 1897 की है. अंग्रेजो और […]

12 September 2019