News

111

विश्व हिन्दू परिषद के पूर्व अध्यक्ष स्वर्गीय विष्णु हरी डालमिया जी को श्रद्धांजली

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ का शोक संदेश – “श्री विष्णु हरी डालमिया जी के दुःखद निधन का समाचार हम सभी के मन में एक दुःखदायक रिक्तता निर्माण कर गया है। वर्तमान पीढ़ी सहित समाज की तीन पीढ़ियां उनके समाज जीवन में सतत व सक्रिय योगदान को देखते आयी है। विश्व हिन्दू परिषद के अध्यक्ष के नाते धार्मिक […]

16 January 2019
 
1

ईमानदारी, प्रमाणिकता, सेवाभाव एनजीओ के लिए आवश्यक – डॉ. बजरंग लाल गुप्त

नई दिल्ली, 12 जनवरी. राष्ट्र के विकास में एन.जी.ओ. का योगदान विषय पर विज्ञान भवन में सेमिनार का आयोजन किया गया. स्वामी विवेकानंद के 156वें जन्मदिवस व श्री गुरुगोविंद सिंह जी के 352वें प्रकाशोत्सव को समर्पित इस सेमिनार में राष्ट्र के विकास में प्रमुखता से योगदान देने वाले एन.जी.ओ. को सम्मानित किया गया. इस अवसर […]

12 January 2019
 
Alok-ji-Press-Conference

श्रीराम जन्मभूमि – विहिप कार्याध्यक्ष एडवोकेट आलोक कुमार का प्रेस वक्तव्य

नई दिल्ली. श्रीराम जन्मभूमि की अपीलों की सुनवाई एक बार पुन: टाल दी गई. हमारा यह संदेह कि विरोधी पक्ष अनावश्यक बहाने बाजी से, अपीलों की सुनवाई को टालने का प्रयास करेंगा, सत्य सिद्ध हुआ. यह कहा जाना कि पाँच सदस्यीय बेंच के गठन हेतु कोई न्यायिक आदेश पारित किया जाए, यह विरोध बेतुका है. […]

10 January 2019
 
1

अखंड गंगा प्रवाह का आधुनिक रूप है संघ – जे. नंदकुमार

भोपाल (विसंकें). प्रज्ञा प्रवाह के अखिल भारतीय संयोजक जे. नंदकुमार जी ने कहा कि राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ अखंड गंगा प्रवाह का आधुनिक रूप है. संघ को लेकर कई परिभाषाएं प्रचलित हैं. यह भारत का मूल स्वरूप है जो संघ के रूप में हमारे सामने है. संघ को उसके स्वयंसेवक को देखकर समझा जा सकता है. […]

4 January 2019
 
sarsangh-chalak

ज्ञान का तात्पर्य केवल किताबी जानकारी नहीं है – डॉ. मोहन भागवत

नागपुर (विसंकें). राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सरसंघचालक डॉ. मोहन भागवत जी ने कहा कि हमारे देश की भाषा, संस्कृति और समाज में विविधताएं हैं. इसलिए शिक्षा की दिशा एकसमान हो कर भी पद्धतियों में भिन्नता हो सकती है. ऐसे में केंद्र से शिक्षा नीति बनना व्यवहार सम्मत नहीं होगा, इसलिए शिक्षा नीति विकेंद्रित होनी चाहिए. […]

3 January 2019
 
111

संघ का कथन – राम मंदिर

हमें आज का प्रधानमंत्री जी का वक्तव्य मंदिर निर्माण की दिशा में सकारात्मक कदम लगता है। प्रधानमंत्री ने अयोध्या में श्रीराम के भव्य मंदिर बनाने के संकल्प का अपने साक्षात्कार में पुनः स्मरण करना यह भाजपा के पालमपुर अधिवेशन (1989) में पारित प्रस्ताव के अनुरूप ही है। इस प्रस्ताव में भाजपा ने कहा था कि अयोध्या में […]

2 January 2019
 
4

सीमान्त क्षेत्र के नागरिकों का सहयोग सीमा की सुरक्षा के लिए आवश्यक है – सुरेश भय्याजी जोशी

नई दिल्ली. राष्ट्रीय सुरक्षा जागरण मंच द्वारा आयोजित संगोष्ठी ‘मंथन’ में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सरकार्यवाह सुरेश (भय्याजी) जोशी ने कहा कि सेना को सीमान्त क्षेत्र के नागरिकों का सहयोग सीमा की सुरक्षा के लिए आवश्यक है. सीमावर्ती क्षेत्र में रहने वाले ग्राम वासियों का सहयोग जितना सीमावर्ती सेना को मिलता रहेगा, उतना उसका लाभ […]

28 December 2018
 
1

नव भारत के निर्माण में युवाओं की सक्रिय भूमिका- श्री विजय रुपाणी

इसरो के पूर्व चैयरमैन डॉ ए. एस.किरण कुमार और गुजरात के मुख्यमंत्री श्री विजय भाई रुपाणी की उपस्थिति में एबीवीपी के 64 वें राष्ट्रीय अधिवेशन का उद्घाटन. गुजरात के कर्णावती (अहमदाबाद महानगर) में साबरमती रिवरफ्रंट पर अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद का 64 वाँ राष्ट्रीय अधिवेशन शुरू हुआ। अंतरिक्ष विज्ञान के क्षेत्र में प्रतिष्ठित अनुसंधान संस्थान […]

27 December 2018
 
sarsanghchalak-at-mumbai

कानून को आचरण में लाने के लिए धर्म का जागृत होना आवश्यक – डॉ. मोहन भागवत

मुंबई (विसंकें). राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सरसंघचालक डॉ. मोहन भागवत जी ने कहा कि “समाज के लिए कानून बनाए जाते हैं. परन्तु जो कानून में है, उसे आचरण में लाने के लिए धर्म का जागृत होना आवश्यक है. समाज धर्म से चलता है. धर्म का अर्थ पूजा नहीं, बल्कि धर्म का अर्थ मानवता है. मानवता […]

23 December 2018
 
53

समस्या का धैर्य से सामना करना गीता का पहला पाठ है – मोहनजी भागवत

वि. स. के. पुणे- 19 दिसंबर – समस्या सामने आने पर पीठ नहीं फेरना, यह भगवद्गगीता का पहला पाठ है। गीता भले ही दुर्बोध लगे, लेकिन उसे जन-जन तक पहुंचाना होगा। अगर भगवद्गगीता घर-घर तक पहुंचे और उसका सच्चे अर्थों में आचरण हो तो भारत आज की तुलना में सौ गुना सामर्थ्य के साथ विश्वगुरु […]

19 December 2018